Call Me Back
Contact Number :
 

Everyone of us wants to access a sustained and happy life, but we rarely get both. We desire to know our future so that any possible bad event can be completely avoided or minimized. Despite being assured, we still do good deeds, charity, wear Ratnas or wander aimlessly at religious places for worship. Do we really able to satisfy the problems of life, family and health for ourselves by adopting such kind of superstitions? Get Sure Shot solutions to all your worries and assure yourself a peace of mind in the form of a book called Yes I Can Change, which has been especially designed for you by renowned astrologer Pt. G.D. Vashist.


Remedies by Pt. GD Vashist

lalkitab

यह जीवन तो यूँही चलता रहेगा, थोड़े से उतार चदाव जीवन मे आते रहते है तो यह बुरे नही होते, उल्टा जीने का मज़ा ही देते है, लेकिन अगर आपके आसपड़ोस मे रिश्तेदारी मे या आपकी जानकारी मे कुछ ऐसे भी लोग होंगे, जिनके बिल्कुल भी कामकाज नही होते, कुछ भी कमा नही पाते, उल्टा लोगो से थोड़े थोड़े पैसा माँग करके अपने जीवन को और दुश्वरियों मे घिरा पाते है, सही मायेने मे ऐसे लोगो को आप कोई मदद करते है, तो आप उनके जीवन मे होने वाले बहुत बुरे हलातो को रोक सकते है, इस मदद का पुण्या आपके करमो मे भी परमात्मा ज़रूर लिखेगा अगर आप सिर्फ़ अपने पैसे से उनकी थोड़ी से यह मदद कर दे, उपाय:- हर 15 दिन मे 2 महीने तक 2 दुकानो से बराबर के आम उनको दिलवा दे और वो उन आमोँ को ग़रीबो मे बाँट दे तो इतनी से देर मे ही उनके ऐसे हालत ज़रूर बन जाएँगे की उनको अपने घर मे रोज़ीरोटी के लिए किसी तकलीफ़ का सामना नही करना पड़ेगा, और यह उपाय वो लोग भी कर सकते है, जो लोगो को धोखा और ठगी करने के बावजूद भी अपने काम काज से दुखी रहेते और सुखी नही रहे पाते वो लोग भी यह उपाय करते है तो उनको भी अच्छा काम काज ज़रूर मिलेगा, माता रानी सदा सुखी रखे.

read more...

Yes I Can Change

  • Why we must completely understand our Birth Charts?
  • What are the reasons behind the problems in our lives such as poverty, illness etc.?
  • How can you get peace and happiness from your relations?
  • Which relatives of yours can betray you?
  • What type of people should you avoid to have a smooth and fulfilling life?

read more...